हड्डी के कैंसर के लक्षण

हड्डी के कैंसर के लक्षण-

“हड्डी के कैंसर को जानने का सबसे अच्छा तरीका, अपने शरीर को नजरअंदाज करना है!”

हड्डी का कैंसर क्या है ?

हड्डी का कैंसर असल में हड्डी के अंदर की कोशिकाओं में अनियमित विकार या असंगत वृद्धि के कारण होता है। यह एक संग्रहीत शब्द है जो हड्डियों में बीमारी का अर्थ होता है जिसे “ऑस्टियोसार्कोमा” के रूप में भी जाना जाता है। इसके अलावा, अन्य विकार जैसे कि मलिग्नेंट फिब्रोज़िस, ईवीएस सर्कोमा और कॉंड्रोमा भी हो सकते हैं।हड्डी का कैंसर आमतौर पर अधिक उम्र वाले व्यक्तियों को होता है, हालांकि इसके कुछ प्रकार बच्चों या युवाओं में भी देखे जा सकते हैं।

ऑस्टियोसार्कोमा
ऑस्टियोसार्कोमा

हड्डी के कैंसर के लक्षण

हड्डी के कैंसर के लक्षण व्यक्ति के स्थिति और बीमारी के स्थान पर निर्भर करते हैं। हालांकि, इस बीमारी के कुछ सामान्य लक्षण निम्नलिखित होते हैं:

  1. दर्द: असामान्य दर्द या तनाव का एहसास होता है, जो समय के साथ बढ़ सकता है और आराम नहीं करता है।

  2. ड्डी में स्थानांतरण: कैंसर बढ़ने से हड्डी का स्थानांतरण हो सकता है। यह बिना किसी वजह के हो सकता है या उपयुक्त उत्पाद के लिए स्थान बनाने के लिए हो सकता है।

  3. हड्डी का कमजोर होना: हड्डी का कैंसर नुकसान के कारण हड्डी को कमजोर कर सकता है और उसे आसानी से तोड़ सकता है।

  4. सूजन: जब कैंसर हड्डी के अंदर बढ़ता है तो आस-पास की संवेदनशील कोशिकाएं सूज सकती हैं।

  5. टमर की आकार में वृद्धि: अगर कैंसर अधिक बढ़ जाता है तो हड्डी में टमर की आकार में वृद्धि हो सकती है और इससे नजर आने वाले स्थान पर दबाव पड़ सकता है।

यदि आपके पास कैंसर के संबंध में संदेह हो तो आपको एक अन्यमित दर्द, सूजन या टमर की उपस्थिति का अनुभव होता है, तो आप तुरंत अपने चिकित्सक से संपर्क करना चाहिए। आपके चिकित्सक आपकी पूरी मेडिकल हिस्ट्री और शारीरिक परीक्षण के आधार पर आपको सही निदान और उपचार के लिए सलाह दे सकते हैं।

क्या बोन कैंसर किसी भी हड्डी में हो सकता है

हाँ, बोन कैंसर किसी भी हड्डी में हो सकता है। बोन कैंसर एक ऐसी स्थिति है जब कोशिकाओं के असंगठित विकास के कारण अनियमित रूप से विकसित होता है। यह संक्रमण, अधिक अंतरंग विकास या वातावरणीय कारकों के कारण हो सकता है।

हालांकि, कुछ हड्डियों को बोन कैंसर के अधिक झुकाव या संक्रमण के लिए अधिक उत्तेजित किया जाता है, जो इस संक्रमण के होने की संभावना को बढ़ाता है।

हड्डियों में दर्द
हड्डियों में दर्द

बोन कैंसर कैसे होता है

बोन कैंसर के विकास के पीछे कई कारक हो सकते हैं। ये कारक निम्नलिखित हो सकते हैं:

  1. जीनेटिक मुद्रण: बोन कैंसर जीनेटिक विकास के कारण हो सकता है। यह जब एक व्यक्ति के शरीर में असंगठित कोशिकाएं विकसित होती हैं जो नियंत्रण से बाहर हो जाती हैं और बोन कैंसर के विकास का कारण बनती हैं।

  2. जीवाणु संक्रमण: अन्य कैंसरों के संबंध में बोन कैंसर भी संभव होता है। जीवाणु संक्रमण एक मुख्य कारक है जो बोन कैंसर के विकास को बढ़ाता है।

  3. अपचयोत्तर रोग: अपचयोत्तर रोग जैसे कि रिकेट्स और ऑस्टियोपोरोसिस के अधिक जोखिम वाले व्यक्ति को बोन कैंसर का खतरा होता है।

  4. बीटा रेडिएशन: उच्च स्तर के बीटा रेडिएशन वाले स्थानों में रहने वाले व्यक्ति को बोन कैंसर का खतरा होता है।

ये कुछ मुख्य कारक हैं, जो बोन कैंसर के विकास के लिए जिम्मेदार हो सकते हैं।

हड्डी के कैंसर के प्रकार

हड्डी कैंसर अनेक प्रकार के होते हैं और ये निम्नलिखित हो सकते हैं:

  1. ऑस्टियोसार्कोमा: यह सबसे आम हड्डी कैंसर है और बच्चों और युवाओं में ज्यादातर पाया जाता है। यह संक्रमण, जीवाणु संक्रमण और जीनेटिक विकास के कारण हो सकता है।

  2. कॉन्ड्रोसार्कोमा: यह बड़ी हड्डियों में होता है और अधिकतर वयस्कों में देखा जाता है।

  3. ईविंग सर्कोमा: यह बच्चों और युवाओं में आम होता है और अधिकतर छोटी या मध्यम आकार की हड्डियों में होता है। यह बड़ी मात्रा में इंटरलेकुलर मेटाफिसियल रीजन के विकास के कारण होता है।

  4. कैरियोसार्कोमा: यह बच्चों और युवाओं में आम होता है और यह हड्डियों के अलावा शरीर के अन्य हिस्सों में भी विकसित हो सकता है।

  5. फाइब्रोसार्कोमा: यह हड्डियों में विकसित होता है और यह बड़ी मात्रा में फाइब्रोस्टिक ट्यूमर के विकास के कारण होता है।

क्या हड्डी के कैंसर के चरण हैं ?

हां, बोन कैंसर की कुछ स्टेज होती हैं। हड्डी के कैंसर का चरण ट्यूमर के आकार से निर्धारित होता है, चाहे वह पास के लिम्फ नोड्स या शरीर के अन्य हिस्सों में फैल गया हो, और क्या यह दूर के अंगों में मेटास्टेसाइज्ड (फैल गया) हो। हड्डी के कैंसर के लिए सबसे अधिक इस्तेमाल किया जाने वाला स्टेजिंग सिस्टम TNM सिस्टम है, जो ट्यूमर, नोड और मेटास्टेसिस के लिए है।

ट्यूमर चरण (टी):

TX: प्राथमिक ट्यूमर का आकलन नहीं किया जा सकता है
T0: प्राथमिक ट्यूमर का कोई सबूत नहीं
T1: ट्यूमर एक हड्डी में स्थित होता है और आकार में 8 सेंटीमीटर से छोटा होता है
T2: ट्यूमर एक हड्डी में स्थित है और आकार में 8 सेंटीमीटर से बड़ा है, या यह पास के ऊतकों में विकसित हो गया है
T3: ट्यूमर आस-पास की हड्डियों या ऊतकों में फैल गया है

नोड चरण (एन):

एनएक्स: लिम्फ नोड्स का आकलन नहीं किया जा सकता है
N0: पास के लिम्फ नोड्स में कैंसर का कोई सबूत नहीं है
N1: कैंसर पास के लिम्फ नोड्स में फैल गया है

मेटास्टेसिस चरण (एम):

एमएक्स: दूर के मेटास्टेसिस का आकलन नहीं किया जा सकता है
M0: दूर के मेटास्टेसिस का कोई सबूत नहीं
M1: कैंसर दूर के अंगों, जैसे कि फेफड़े, लीवर, या मस्तिष्क में फैल गया है

इस TNM प्रणाली का उपयोग करते हुए, हड्डी के कैंसर को आम तौर पर चार चरणों में वर्गीकृत किया जाता है:

स्टेज I: ट्यूमर छोटा है और पास के लिम्फ नोड्स या दूर के अंगों में नहीं फैला है।
स्टेज II: ट्यूमर बड़ा है और पास के लिम्फ नोड्स में फैल सकता है, लेकिन दूर के अंगों में नहीं फैला है।
स्टेज III: ट्यूमर बड़ा होता है और आस-पास के ऊतकों, हड्डियों या लिम्फ नोड्स में फैल सकता है।
चरण IV: कैंसर फेफड़ों या यकृत जैसे दूर के अंगों में फैल गया है।

उचित उपचार विकल्पों और रोगी के दृष्टिकोण को निर्धारित करने में हड्डी के कैंसर का चरण एक महत्वपूर्ण कारक है। हड्डी के कैंसर के विशिष्ट चरण और उपचार विकल्पों के बारे में अधिक जानकारी के लिए एक स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से परामर्श किया जाना चाहिए।

हड्डी के कैंसर की पहचान कैसे करें

हड्डी के कैंसर की पहचान करने के लिए निम्नलिखित टेस्ट और जांच की जा सकती है:

  1. एक्स-रे(x-ray): यह एक साधारण टेस्ट है जो हड्डियों के अंदर बने ट्यूमर या अन्य असामान्य गतिविधियों को दिखाता है।

  2. एमआरआई (Magnetic Resonance Imaging): एमआरआई एक उच्च-संक्षिप्तता जांच होती है जो हड्डियों के अंदर बने ट्यूमर को चित्रित करती है।

  3. कंप्यूटेड टमोग्राफी (Computed Tomography): कंप्यूटेड टमोग्राफी एक और प्रभावी टेस्ट है जो हड्डियों के अंदर बने ट्यूमर को चित्रित करती है।

  4. स्कैन सीएनजी (Bone Scan): यह टेस्ट हड्डी के अंदर कैंसर के खोपड़ी में गतिविधि को दिखाता है।

  5. बायोप्सी(Biopsy): यह एक प्रकार की सर्जरी होती है जिसमें हड्डी से कुछ संग्रहित ऊतक लिए जाते हैं और उन्हें लैब में जांचा जाता है कि क्या वह कैंसर हैं या नहीं।

यदि आपके पास कोई संदेह होता है तो आप अपने चिकित्सक से संपर्क करें जो आपको सही जांच और उपचार के बारे में बता सकता है।

हड्डी के कैंसर को कैसे रोकें

हड्डी के कैंसर को रोकने के लिए कुछ मुख्य उपाय निम्नलिखित हैं:

  1. स्वस्थ आहार: स्वस्थ आहार लेना बढ़ते हुए कैंसर के खतरों को कम कर सकता है। आपको सभी पोषक तत्वों, विटामिन, प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट और फाइबर से भरपूर भोजन लेना चाहिए।

  2. नियमित व्यायाम: नियमित व्यायाम करना आपको स्वस्थ रखने में मदद कर सकता है और कैंसर के खतरों को कम करने में भी मदद कर सकता है।

  3. नशीली चीजों से बचें: धूम्रपान और अल्कोहल खाने से कैंसर के खतरे बढ़ सकते हैं। इन नशीली चीजों से दूर रहें।

  4. समय-समय पर चेकअप: स्वस्थ रहने के लिए, समय-समय पर अपने डॉक्टर को देखें और अपने स्वास्थ्य की जाँच कराएं। विशेष रूप से उन लोगों के लिए जो उम्र में बढ़ रहे हैं या कैंसर के जोखिम में हैं।

  5. जीवन शैली बदलें: स्ट्रेस, तंबाकू खाने और बेहद नशीली चीजों से दूर रहें। एक स्वस्थ और आरामदायक जीवन शैली का अनुसरण करें

हड्डी के कैंसर के लिए उपचार

हड्डी के कैंसर का उपचार कैंसर के प्रकार, स्थान और अवस्था जैसे विभिन्न कारकों पर निर्भर करता है। हड्डी के कैंसर के सबसे आम प्रकार ओस्टियोसारकोमा, चोंड्रोसारकोमा और इविंग सारकोमा हैं। उपचार के विकल्पों में शामिल हैं:

  1. सर्जरी(Surgery): हड्डी के कैंसर का प्राथमिक इलाज सर्जरी है। सर्जन इसके आसपास के स्वस्थ ऊतक के एक मार्जिन के साथ ट्यूमर को हटा देता है। कुछ मामलों में, प्रभावित हड्डी को हटाया जा सकता है और उसकी जगह बोन ग्राफ्ट या कृत्रिम प्रत्यारोपण लगाया जा सकता है।
  2. विकिरण चिकित्सा(Radiation therapy): विकिरण चिकित्सा कैंसर कोशिकाओं को मारने के लिए उच्च-ऊर्जा एक्स-रे या अन्य प्रकार के विकिरण का उपयोग करती है। इसका उपयोग सर्जरी से पहले या बाद में या हड्डी के कैंसर के प्राथमिक उपचार के रूप में किया जा सकता है जिसे सर्जरी से हटाया नहीं जा सकता है।
  3. कीमोथेरेपी(Chemotherapy): कीमोथेरेपी कैंसर कोशिकाओं को मारने के लिए दवाओं का उपयोग करती है। यह सर्जरी से पहले या बाद में, या हड्डी के कैंसर के प्राथमिक उपचार के रूप में दिया जा सकता है जो शरीर के अन्य भागों में फैल गया है।
  4. लक्षित चिकित्सा(Targeted therapy): लक्षित चिकित्सा उन दवाओं का उपयोग करती है जो कैंसर कोशिकाओं में विशिष्ट प्रोटीन या जीन को उनके विकास या प्रसार को रोकने के लिए लक्षित करती हैं।
  5. इम्यूनोथेरेपी(Immunotherapy): इम्यूनोथेरेपी दवाओं का उपयोग करती है जो कैंसर कोशिकाओं को पहचानने और उन पर हमला करने के लिए प्रतिरक्षा प्रणाली को उत्तेजित करती हैं।
  6. क्रायोसर्जरी(Cryosurgery ): क्रायोसर्जरी में तरल नाइट्रोजन के साथ कैंसर कोशिकाओं को फ्रीज़ करना शामिल है। इस प्रक्रिया का उपयोग अंगों की हड्डियों में छोटे ट्यूमर के लिए किया जाता है।
  7. विच्छेदन(Amputation): कुछ मामलों में, कैंसर की हड्डी को हटाने के लिए विच्छेदन आवश्यक हो सकता है।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि हड्डी के कैंसर का उपचार अक्सर जटिल होता है और इसमें इन उपचारों का संयोजन शामिल हो सकता है। प्रत्येक व्यक्तिगत मामले के लिए सर्वोत्तम उपचार योजना निर्धारित करने के लिए एक स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से परामर्श किया जाना चाहिए।

Share:

Facebook
WhatsApp
Aviral
Reviewed By : Dr. Aviral Vatsa

Social Media

Most Popular

Get The Latest Updates

Subscribe To Our Weekly Newsletter

No spam, notifications only about new products, updates.

Categories

On Key

Related Posts